​हमारे देश में बहुत सारे ऐसे प्राचीन मन्दिर मिलते हैं जो किसी पर्वत या पहाडी पर स्थित हैं। केदारनाथ kedarnath , बद्रीनाथ badrinath और वैष्णो देवी vaishno devi काँगड़ा माता kangra mata जैसे प्रसिद्ध धाम पर्वतों पर ही स्थित हैं। कभी आपने सोचा है ऐसा क्यों है ?

दरअसल इसके पीछे एक सकारात्मक रहस्य छुपा हुआ है। हमारे देश के ज्यादातर धार्मिक स्थल ऐतिहासिक हैं जो खुद में एक लंबा इतिहास समेटे हैं। उस इतिहास की जानकारी हमे कम ही होती है ।

लेकिन कुछ ऐतिहासिक ना होकर भी लोगों की मान्यता एवं श्रद्धा के अनुसार बनाए गए हैं।

#

ये भी पड़े :- महात्मा बुद्ध जी के जीवन की ये बाते आपके जीवन को बनाये गी सफल ।

#

भारत में यदि किसी जगह सबसे ज्यादा धार्मिक स्थल हैं तो वह हिमालय Himalaya क्षेत्र में ही हैं।

प्रसिद्ध कवि रविंद्र नाथ टैगोर Ravindra nath Tagore ने इस बारे में अपनी एक पुस्तक ‘साधना- दि रियलायज़ेशन ऑफ लाइफ’ ‘Sadhna – The realization of life ‘ में बताते हुए लिखा है कि, भारत में जब-जब साधना एवं भक्ति के लिए जगह की खोज की जाती है, तो किसी शांत, हरियाली से भरे माहौल को ही चुना जाता है। इसी लिए ही ऋषि मुनि सांसारिक मोह माया त्याग के जंगलो में प्रवास करते है ।
ज्यादातर आध्यात्मिक पुरुष द्वारा ऐसे स्थान को चुना जाता है जहां आसपास का शांत पर्यावरण मन एवं दिमाग को शांति पहुंचाए।

टैगोर Tagore ने यह भी बताया है कि, यह बात केवल भारतीय सीमा तक ही लागू नहीं होती। उन्होंने बताया कि ईसाई धर्म में भी गिरिजाघर एवं मोनास्ट्री के लिए ऐसी ही हरी-भरी जगहों का चयन किया जाता है।

 ऐसा ही बौद्ध संप्रदाय में भी है जिनके ज्यादातर मठ मन्दिर पहाड़ों और शांत स्थानों पर ही पाए जाते हैं। 
इसके पीछे सबसे बडा कारण एक यह भी है कि यह जगहें आत्मा को सुख प्रदान करती है, प्रकृति का यह रूप हमारी आत्मा को परमात्मा से मिलाने में सहायक सिद्ध होता है।
शायद इसीलिए प्राचील काल से अब तक जब-जब ऋषि-मुनियों के मन में तपस्या का ख्याल आया है उन्होंने हिमालय Himalaya की सुंदर वादियों की ओर ही रुख किया है।
ऐसा नहीं है कि केवल ऋषि-मुनि ही ऐसी वादियों पर जाकर परमात्मा से मिलने वाले सुख को प्राप्त करते हैं।

स्वयं हम भी जब ऐसे स्थलों में प्रवेश करते हैं तो अपने दिमाग को शांत पाते हैं।
ऐसे स्थानों पर हमारी आंखें एक अजब-सी ठंडक को महसूस करती हैं और यही ठंडक हमारी आत्मा को शांत करती है।

यही सब वह कारण हैं जिसके चलते ज्यादातर प्राचीन एवं ऐतिहासिक मन्दिर पहाडों पर ही पाए जाते हैं।

#
ये लेख भी पड़े :- कीबोर्ड के Ctrl Alt Del के फायदे तो आप जानते होंगे पर इनके नुकसान जानकर आपको हँसी आएगी । जानिए यहाँ ।

Advertisements